90 के टॉप प्लेबैक सिंगर उदित नारायण के बारे में कुछ रोचक बातें जाने | - khabarcelebrity-Bollywood,movies,video & photos

Search

Friday, November 30, 2018

90 के टॉप प्लेबैक सिंगर उदित नारायण के बारे में कुछ रोचक बातें जाने |





हेल्लो दोस्तो कैसे हो आप सब आज मै एक ऐसे सेलेब्रिटी के बारे में बताने जा रहा हूं जिसको आप सभी
कहीं मेरे से भी ज्यादा जानते होंगे पर उनके बारे में आज कुछ रोचक बात बताने जा रहा हूं तो चलिए सुरु
करते है । कहो ना प्यार है जी हां मै बात कर रहा हूं उदित नारायण का जो इंडिया के टॉप प्लेबैक सिंगर थे
उनका जन्म 1 दिसंबर 1995 , सप्तारी, नेपाल में हुआ था ।
90 के टॉप प्लेबैक सिंगर उदित नारायण के बारे में कुछ रोचक बातें जाने |
90 के टॉप प्लेबैक सिंगर उदित नारायण के बारे में कुछ रोचक बातें जाने |


उन्होंने चार नेशनल फिल्म अवॉर्ड जीते है उन्होंने
अलग अलग भाषाएं में गाना गए है जिनमे भोजपुरी मैथिली नेपाली भाषा समिल है।उनको पांच फिल्म
फेयर अवार्ड और 20 बार नॉमिनेट हुआ है। उदित नारायण को पद्म श्री पुरस्कार 2009 में और पद्म विभूषण
अवॉर्ड 2016 में भारत सरकार के तरफ से मिला। उदित नारायण का 21 सोंग जो कि बीबीसी के टॉप 40
गानों में सामिल है। उदित के माता भुनेश्वरी झा इंडिया से और पिता नेपाल से थे ।उनका दो पत्नी है रंजना
नारायण और दीपा नारायण। एक बेटा है आदित्य नारायण।ओ बॉलीवुड के सभी बड़े बड़े बैनर तले काम कर
चुके है।उनका पहला बॉलीवुड गाना फिल्म उन्नीस बीस में गया था ।वह 1 99 0 के दशक और 2000 के दशक
के आरंभ में बॉलीवुड गायकों के सबसे प्रमुख उस्ताद (शिक्षक) में से एक थे। वह विभिन्न बॉलीवुड सितारों के
लिए ऑन स्क्रीन गा चुके है । उन्होंने बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन, राजेश खन्नांद, देव आनंद के साथ
भी गाया है। उनके अधिकांश युगल अल्का याज्ञिक के साथ हैं। उन्होंने 1 9 70 में रेडियो नेपाल के लिए
मैथिली लोक गायक (स्टाफ कलाकार) के रूप में अपना करियर शुरू किया, मैथिली और नेपाली में ज्यादातर
लोकप्रिय लोक गीत गाए। [24] धीरे-धीरे, उन्होंने आधुनिक नेपाली गाने गाए। आठ वर्षों के बाद, नारायण
ने भारतीय विद्या भवन में शास्त्रीय संगीत का अध्ययन करने के लिए नेपाल में भारतीय दूतावास से नेपाली
के लिए एक संगीत छात्रवृत्ति पर बॉम्बे चले गए।नारायण ने 1 9 80 में अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत
की, जब उन्हें संगीत निर्देशक राजेश रोशन ने नोट किया, जिन्होंने नारायण से हिंदी फिल्म यूनीस-बीस के
लिए एक गाना गाने को कहा। नारायण को महान गायक मोहम्मद रफी के साथ गाना करने का मौका दिया
गया था। उन्होंने देवदांद के लिए स्वामी दादा में दो जोड़े के लिए गाया। उनका पहला गाना फिल्म सन्नता में
था। इसके तुरंत बाद, नारायण ने 1 9 83 में बडे दिल वाला समेत कई अन्य फिल्मों के लिए गाया, जहां उन्होंने
वरिष्ठ संगीत निर्देशक आर डी बर्मन द्वारा रचित वरिष्ठ गायक लता मंगेशकर के साथ एक एक गाना गाया।
उसी वर्ष, नारायण ने फिल्म कह दो प्यार है में किशोर कुमार के साथ गाया। उन्होंने एक अन्य गाना गायक
सुरेश वाडकर के साथ गाया था जिसमें बप्पी लाहिरी द्वारा संगीत बनाया गया था। उनके करियर का
महत्वपूर्ण मील का पत्थर 1 9 88 में हुआ जब आनंद-मिलिंद ने उन्हें सफल बॉलीवुड फिल्म कयामत से
कयामत तक के लिए सभी गाने गाए जाने का मौका दिया, जिसमें अल्का याज्ञिक ने उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड
अर्जित किया। द टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ एक साक्षात्कार में, नारायण ने कहा "गीत मैंने गाया है"

"मनज़िलिन "" पेहला नाशा "के बाद मेरे करियर का सबसे अच्छा गीत है, जिसने मुझे सुपरस्टारम दिया"

नारायण 2000 के दशक के दौरान शानदार बने रहे, जो पुकार, ढक्कन, लगान, देवदास और वीर जरा जैसे
फिल्मों में लोकप्रिय गाने गाये थे।उदित नारयण ने हजारों गाने गाए जो कि हमेशा सुपर दुपर हिट रहे
है।आज भी हम जब गाने गुनगुनाते है तो उसमे उदित नारयण के गाए हुए गाने जरूर होते है ।हमरे घरों में हमरे
दिल में बसे हुए है उदित नारायण जी।तो चलिए दोस्तो अगर इस पोस्ट से आपको कुछ जानकारियां मिली
होगी तो प्लीज मुझे फॉलो करे।



written by jiut ray